Sunday, March 3, 2024
HomeRelationship ShayariBest 777+ Wafa Shayari in Hindi | वफ़ा शायरी , दर्द वफ़ा...

Best 777+ Wafa Shayari in Hindi | वफ़ा शायरी , दर्द वफ़ा शायरी

क्या जानो तुम बेवफाई की हद दोस्तों !!
वो हमसे इश्क सीखती रही किसी ओर के लिए !!

दोस्त को दौलत की निगाह से मत देखो !!
वफा करने वाले दोस्त अक्सर गरीब हुआ करते हैं !!

हमसे न करिये बातें यूँ बेरुखी से सनम !!
होने लगे हो कुछ-कुछ बेवफा से तुम !!

अपने तजुर्बे की आज़माइश की ज़िद थी !!
वर्ना हमको था मालूम कि तुम बेवफा हो जाओगे !!

मेरी दास्ताँ-ए-वफ़ा बस इतनी सी है !!
उसकी खातिर उसी को छोड़ दिया !!


wafa shayari,
wafa shayari in hindi,
love wafa shayari,
wafa shayari urdu,
wafa ki shayari,
wafa par shayari,
2 line wafa shayari in hindi,
Bewafa Shayari In Hindi,
2 Lines Wafa Shayari,
meri wafa shayari,
wafa shayari hindi mai,
hum wafa karte rahe shayari,
wafa shayari in english,
wafa 2 line shayari,
wafa shayari image,
be wafa dost shayari,
bewafa se wafa shayari images,
pyar wafa shayari,
wafa bewafa shayari,
wafa shayari images in hindi,
wafa shayari wallpaper,
bewafa se wafa shayari,
love wafa shayari in hindi,
sad wafa shayari,
shayari wafa,
shayari wafa ka dard,
shayari wafa ka dard hindi,
teri wafa shayari,
urdu shayari wafa ka dard,
wafa aur bewafai shayari,
wafa dosti shayari,
wafa ki shayari in hindi,
wafa ki shayari urdu,
wafa pe shayari,
wafa shayari english,
wafa shayari faraz,
wafa shayari in hindi image,
wafa shayari in urdu,
wafa shayari photo,
wafa shayari rekhta,
wafa shayari urdu 2 line,
wafa wali shayari,
2 wafa shayari,
a wafa 2 shayari,
bewafa se wafa image shayari,

कितनी भी सच्ची मोहब्बत कर लो !!
वफा का लोग साथ छोड़ ही देते है !!

मेरे अलावा किसी और को अपना महबूब बना कर देख ले !!
तेरी हर धड़कन कहेगी उसकी वफ़ा मैं कुछ और बात थी !!

उँगलियाँ आज भी इसी सोच में गुम हैं !!
कि कैसे उसने नए हाथ को थामा होगा !!

नज़ारे तो बदलेंगे ही ये तो कुदरत है !!
अफ़सोस तो हमें तेरे बदलने का हुआ है !!

मेरी तलाश का है जुर्म या मेरी वफा का क़सूर !!
जो दिल के करीब आया वही वफा ना कर सका !!

रुशवा क्यों करते हो तुम इश्क़ को, ए दुनिया वालो !!
मेहबूब तुम्हारा बेवफा है, तो इश्क़ का क्या गनाह !!

डरा -धमका के तुम हमसे वफ़ा करने को कहते हो !!
कहीं तलवार से भी पाँव का काँटा निकलता है !!

तेरा ख्याल दिल से मिटाया नहीं अभी !!
बेवफा मैंने तुझको भुलाया नहीं अभी !!

वो मिली भी तो क्या मिली बन के बेवफा मिली !!
इतने तो मेरे गुनाह ना थे जितनी मुझे सजा मिली !!

आप जैसों के लिए इस में रखा कुछ भी नहीं !!
लेकिन ऐसा तो न कहिए कि वफ़ा कुछ भी नहीं !!

इसे भी पढ़े:- Dhoka Shayari in Hindi | विश्वास पर धोखा शायरी

RELATED ARTICLES

2 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments